बुआ भतीजे केशव और चचेरी बहन बेहोशी की हालत में खेत में मिली



उत्तर प्रदेश का उन्नाव जिला पिछले तीन-चार सालों में कई बार  महिलाओं के साथ हो रहे घिनौने अपराध के मामले में सामने आया है। 17 फरवरी 2021 बुधवार शाम को खेत में मिले बुआ भतीजे केशव और चचेरी बहन बेहोशी की हालत में मिली थी जिसका इलाज चल रहा है और वह जिंदगी की जंग लड़ रही है। इनके साथ चाहे अपराधी घटना को अंजाम दिया गया हो या फिर ऑनर किलिंग का मामला हो या फिर पारिवारिक कलह हो जो भी हो बहुत ही दयनीय और शर्मसार करने वाली घटना है। इसका खुलासा तो पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद होने की संभावना है।

2017 के पहले बहुत ही जोर शोर से प्रचार किया गया था कि उत्तर प्रदेश में कानून व्यवस्था नहीं रही है। यहां तो जंगलराज कायम हो गया है। इस जंगलराज में बेटी पढ़ाओ और बेटी बचाओ का नारा दिया गया था। आज उत्तर प्रदेश की हालत यह हो गई है कि अब तो बेटी को घर से निकलना ही मुश्किल हो गया है। पढ़ाने की बात तो बहुत ही दूर की रही। कहा गया है कि एक अंगुली अगर किसी की तरफ उठाओगे तो चार अंगुली अपनी तरफ उठ जाती हैं।

उधर बेरोजगारी, भ्रष्टाचार, किसानों की आय दोगुनी करने आदि का बीजेपी ने जोर शोर से प्रचार किया था। इन सब को  यदि बारीकी से देखा जाए तो बेरोजगारी बेरोजगारी पर कोई ठोस कदम नहीं उठाया गया। न ही भ्रष्टाचार। किसानों की आय तो इतनी दूरी हो गई है कि उनको विगत 3 माह से दिल्ली के बॉर्डर पर इस भयंकर ठंड में आंदोलन करना पड़ रहा है इस आंदोलन को कुचलने के लिए सरकार ने कैनन वाटर,रोड पर खाई खोदना और किले गाड़ना तक सरकार को पड़ गया। इन किसानों को रोकने के लिए सरकार ने वो काम किया हैं। जोआतंकी गतिविधियों को रोकने के लिए किया जाता है। इस बीच 200 से ज्यादा किसान शहीद हो गए हैं लेकिन सरकार के कान पर जूं तक नहीं रेंगा। अड़ियल रवैया अपनाए हुए हैं। 

अपराध और महंगाई का आलम तो यह है कि पूरा देश देख रहा है।जब  ₹70 पेट्रोल था तब महंगाई दिखाई पड़ रही थी आज जब 100 रुपए प्रति लीटर को छूने के लिए पेट्रोल-डीजल बेताब है तब सत्तापक्ष को महंगाई नहीं दिखाई पड़ रही है।

उधर पड़ोसी देश चीन पाकिस्तान और नेपाल को लेकर हमारे विदेश नीति कोई खास अच्छी नहीं रही है। यहां एक कहावत फिट बैठती है कि अपने मुंह मियां मिट्ठू बनना।

टिप्पणियां