डीसी मनरेगा की ब्लॉक में दो मुर्दों को 33 दिन का काम

उत्तर प्रदेश के उन्नाव जिले के हसनगंज तहसील मैं विकासखंड जो पूरे जिले में मनरेगा के कर्ताधर्ता हैं उन्हीं के ब्लॉक की ग्राम पंचायत मैं दो मर्दों ने मिलकर 33 दिन तक काम किया मनरेगा में काम करने के नाम पर इतनी ही दिनों का भुगतान भी इन मर्दों को अलग अलग कर दिया गया। यह मामला जिले में मनरेगा के पोल खोलने के लिए काफी है।

उत्तर प्रदेश के उन्नाव जिले की हसनगंज ब्लाक के ग्राम पंचायत आदमपुर भासी के निवर्तमान प्रधान और सचिव की दरियादिली से 33 दिन तक मनरेगा भुगतान गांव के ही दो मृतक व्यक्तियों को किया गय। इनकी मौत 7 साल पहले हो चुकी थी।ग्रामीणों ने ब्लॉक में शिकायत पत्र देकर जांच की मांग की गांव निवासी निर्मल एडीओ पंचायत लल्लू लाल को शिकायत पत्र देकर बताया कि रामविलास पुत्र जयराम व अजय कुमार को ग्राम पंचायत में तैनात सचिव व निवर्तमान प्रधान की मिली भगत से काम दिया गया। इ

बाद मृतक रामविलास को 21 मानव दिवस जिसका लेबर कार्ड नंबर यूपी 31-007 -020 -0026 का पैसा दिया गया जांच कराने के लिए निर्मल कुमार ने एडीओ पंचायत स्तर पर कार्रवाई की मांग की है। जिसकी अभी तक कोई जांच नहीं हुई।तेरी पंचायत लड्डू ने बताया कि शिकायत पत्र मिला है जांच कराकर कार्रवाई की जाएगी निवर्तमान प्रधान संतोष लोधी ने बताया कि यह लोग माता की अगर इनके खाते में पैसा आ जाएगा तो बैंक से कैसे निकलेंगे आरोप गलत लगाए जा रहे हैं।

डीसी मनरेगा राजेश कुमार झा ने बताया कि जांच करवा लूंगा शिकायत सही पाई गई तो सख्त कार्रवाई की जाएगी।

टिप्पणियां